राम पर कविताएं

राम पर कविताएं

तब राम मिले थे…

तब राम मिले थे काकभुशुंडि जी की वाणी मे।
अब भी राम मिलेगे राम का नाम सुनने से।।

तब राम मिले थे तुलसीदास जी को चौपाईयो मे।
अब भी राम मिलेगे उन चौपाईयो का अनुसरण करने से।।

तब राम मिले थे दशरथ को निभाते वचनो मे।
अब भी राम मिलेगे अपने पिता कि आज्ञा का पालन करने से।।

तब राम मिले थे कौशल्या की ममता मे।
अब भी राम मिलेगे अपने माँ बाप की सेवा करने से।।

तब राम मिले थे सीता को पवित्रता मे।
अब भी राम मिलेगे अपने मन को पवित्र रखने से।।

तब राम मिले थे लक्ष्मण को सेवा मे।
अब भी राम मिलेगे राष्ट्र सेवा करने से।।

तब राम मिले थे भरत को शासन करने मे।
अब भी राम मिलेगे अपना राष्ट्र धर्म निभाने से।।

तब राम मिले थे बजरंग बली के सीने मे।
अब भी राम मिलेगे राम के नाम का जप करने से।।

तब राम मिले थे अनुसूया को मानवता मे।
अब भी राम मिलेगे उस मानवता को बनाये रखने से।।

तब राम मिले थे सबरी को झुठे बेर खिलाने मे।
अब भी राम मिलेगे भूखो को भोजन कराने से।।

तब राम मिले थे घायल जटायु को दर्द मे।
अब भी राम मिलेगे निर्धन बेसहारो को सम्भालने से।।

तब राम मिले थे अयोध्या को मर्यादाओ मे।
अब भी राम मिलेगे भारत की पहचान श्री राम से कराने से।।

Bhagwan Shri Ram Poem in Hindi

सबके राम

इसके राम उसके राम
जो मन सुमिरै उसके राम!

कौशल्या के नंदन बनकर,
चाँद खिलौना लेते राम!

शिव धनुष की प्रत्यंचा बाँधें,
जनक सुता सीता के राम!

दशरथ के वचनों को थामे,
कैकयी की कसमों के राम !

शबरी के जूठे बेर खाकर
हर भाव-भेद मिटाते राम !

केवट जिनके चरण पखारे,
नाव लखन संगतारैं राम !

भाई भरत का मान बढ़ाते,
चरण पादुका मेंबसते राम !

अरण्य वन में सिया बिन तड़पे,
जटायु से पता पूछते राम !

गिलहरी का वंदन करते,
अहल्या की मुक्ति बनते राम !

रामसेतु की महिमा अद्भुत,
पत्थर भी तैराते राम !

हनुमान के हृदय में बसते,
लंका पर विजय कराते राम!

भव से सबको पार उतारें 
त्रेता युग के राजा राम !

महिमा राम की पता न हो तो,
कहकर देखो, जय सियाराम !

अयोध्या में सदा विराजे, जय श्रीराम

~सुजाता गुप्ता

यह सुनें –

पुरषोत्तम कहलाते हो

मर्यादा के  मूर्ति  हो  तुम,
जो पुरषोत्तम कहलाते हो,

माता-पिता के आदर्श बने,
भाईयों में भी आदर्श बने,

एकल पत्नी धर्म निभाया,
और सखो से सच्चा मित्रवत निभाया,

गुरु और संतों की खूब सेवा किया आप ने,
माता-पिता का सदा वचन निभाया,

संहारक बने आप सदा दुष्टों का,
नारायण नर बनकर आए इस जहान में,

माया दिखाई आप ने अपनी इस जहान में,
सबक  सीखाने हेतु  मानव जीवन जन्म लिया आप ने

जीवन के संघर्षों का बोध कराया आप ने,
अहंकार लोभ, कोध्र, स्वार्थ, दंभ,
डाह, छल, का बोध कराया आप ने,

सदा दृढ़ संकल्प रहे अपने वचनों पर,
सत्य का सदैव भान कराया आप ने,

सम्मान करो सदा सभी का
पर नारी को ‌सदा अपनी माता समझो,

सदैव समदर्शी और न्याय पर रहो,
साथ न दो कभी अन्याय का,

दया करो सभी प्राणियों पर,
सत्य के मार्ग पर सदा चलो,

ऐसे हैं मेरे प्रभु श्रीराम जी,
जो सदा हमारे उर में माता सीता जी के साथ बसे,

हम है सदा तुम्हारे सेवक बने,
हमें सदा आपका सानिध्य मिले

न कोई है इस जगत में तुम्हारे सिवाय,
शरणागत रहूं मैं आप का सदा,

ऐसा आशीष दीजिए मुझे,
वरद हस्त सिर पर मेरे रख दीजिए,

है मेरी कामना सदा आप से,
मुखारविंद से निकले सदा मेरे,
जय जय श्री राम।।

~अनिल कुमार राठौर

Bhagwan Shri Ram Poem in Hindi

राम से भी बड़ा राम का नाम है 

राम होना भी कोई खेल नही
सिर्फ नीति धर्म का ही मेल नही

मर्यादा को भी समविष्ट करना पड़े
वन के दुर्गम पहाड़ो को चढ़ना पड़े

पित्राज्ञा को धर वन को जाना पड़े
पर्णकुटीयो मे जीवन बिताना पड़े

खुद का भोजन सिया सँग बनाना पड़े
अपने जीवन को वन में बिताना पड़े

सँग लक्ष्मण को ले पथ में आगे बड़े
कर संतो के दर्शन वन शिखर को चढ़े

निज पुत्रो का कड़वा भी सुनना पड़े
सीता पर है विजित विरह चुनना पड़े

राम आदर्श है राम विश्वास है
राम केवट की नय्या की वो आस है

राम मानवता के उच्च आदर्श है
राम शिला सी नारी के स्पर्श है

राम करूंगा धर्म का भी गठजोड़ है
राम जीवन से जीवन का वो मोड़ है

राम के नाम से रामसेतु बना
राम के नाम से अष्म जल मे तना

राम शबरी के बेरो से खिल जायेगे
राम हनुमत के सीने में मिल जायेगे

विदेही का विश्वास है रामजी
सरयू सरिता के तट की आस है रामजी

राम भक्ति बाजारों में मिलती नही
रामशक्ति अलौकिक है, दिखती नही

राम संतो का तप और परिणाम है
राम से भी बड़ा राम का नाम है

~रूपचंद सोनी

उम्मीद करता हूँ आपको ये भगवान राम पर कविताएं पसंद आई होगी। नीचे दी गई लिंक पर जा कर आप और भी प्रभु राम पर कविताएं पढ़ सकते हैं।

राम पर कविताएं