Category: सरस्वती वंदना

सरस्वती वंदना कविता

सरस्वती वंदना कविता – हंस वाहिनी वाणी दायिनी

सोच हमारी बिगड़ गई माते, बिगड़े बोल जुबां पर आए केकई, द्रौपदी की जिव्हा पर आ मां तूने, बड़े-बड़े कई युद्ध कराए पर अब उतर तू कृष्ण सी जिव्हा पर, एक और ज्ञान गीता जग चाहे वेदव्यास सी बुद्धि दे माता, विवेकानंद सा ज्ञान रे